उफ्फ़, आखिर क्या दर्शाते हैं ये नोटों पर छपे चित्र

उफ्फ़, आखिर क्या दर्शाते हैं ये नोटों पर छपे चित्र

ख़बर ज़रा हट के। यूं तो हम और आप दिन में कई बार नोटों का उपयोग करते हैं। हर रोज़ अलग-अलग तरह के नोट हमारे हाथों में आते और जाते हैं, लेकिन क्या कभी हमने उन नोटों को ध्यान से देखा है। कभी हमने ये जानने की कोशिश की इन  नोटों पर जो चित्र छपे हैं वो कहाँ से संबंधित है। शायद नहीं। लेकिन यहां हम आपको बताते चलें कि नोटों पर छपे ये चित्र भी बहुत कुछ कहते है ।

                                         

जानते हैं क्या कहते हैं हमारे नोटों पर छपे चित्र।

1 : 10 के नोट पर छपा चित्र कोणार्क सूर्य मंदिर का है। इस मंदिर को गंग वंश के राजा नरसिम्हा देव् प्रथम ने 1278 ईस्वी में बनवाया था। यूनेस्को की विश्व विरासत स्थल सूची में शामिल है।

                                           

2 : 20 के नोट पर माउंट हैरियट राष्ट्रीय उद्धान है। अंडमान निकोबार द्वीप समूह मे स्थित माउंट हैरियट दक्षिणी अंडमान का सबसे ऊंची (365 मीटर) चोटी है। 

                                            

3 : 50 के नोट में कर्नाटक के हम्पी में स्थित रथ का चित्र है। यह नगर प्राचीन साम्राज्य की राजधानी था। यह भी विश्व विरासत स्थलों की सूची में शामिल है। 

                                             

4 : 100 के नए नोट पर गुजरात की रानी को वाव का चित्र है। इसका निर्माण राजा भीमदेव की पत्नी रानी उदयमती ने 11वी शताब्दी में कराया था। पाटण में स्थित इस वाव (बावड़ी) को 2014 में विश्व विरासत स्थल सूची में शामिल किया गया है। 

                                             

5 : 200 के नोट पर सांची स्तूप का चित्र अंकित है। बौद्ध धर्म के इस स्तूप के निर्माण सम्राट अशोक ने करवाया था। ये बौध्द स्मारक तीसरी शताब्दी ईसापूर्व से लेकर बारहवी शताब्दी के बीच कराया था।

                                              

6 : 500 का नोट के नोट पर लाल किले का गौरव अंकित है। लाल किले का निर्माण शाहजहां ने करवाया था। इस किले के निर्माण में लाल बलुआ पत्थर के प्रयोग के कारण इसका नाम लाल किला पड़ा। यह विशाल किला भी विश्व धरोहर सूची में शामिल है। 

                                              

7 : 2000 का नोट मंगलयान की सफलता का सूचक माना जाता है। यह भारत का पहला मंगल अभियान है। पहली ही बार में मंगल की कक्षा में सफलतापूर्वक प्रवेश करने वाला भारत विश्व का पहला देश है।

                                              

Comment



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED