रिटायरमेंट, यूं जीये मौज में जिंदगी

रिटायरमेंट, यूं जीये मौज में जिंदगी

उफ़्फ़ ये जिंदगी : रिटायर मेन्ट के बाद एक नई पारी की शुरुआत - समय पंख लगाकर कैसे उड़ जाता है पता ही नहीं चलता। शादी हुई, बच्चे हुए,  बच्चे बड़े हुए और अपनी एक अलग दुनियाँ मे रम गये। इन सब जिम्मेदरियों को निभाने में हमें अपने लिए वख्त ही नहीं मिल पाया। अब रिटायरमेंट भी हो गया अब वख्त ही वख्त है अपने लिए तो क्यों न क्यों हम वो सब करें जो करने की ख्वाहिश मन दबी रह गई थी। अभी तक आप अपनों के लिए जिये अब समय है अपने लिए जीने का। तो आइए इस सेकंड इनिंग की शुरुआत कुछ इस तरह करते हैं।

 

पहले की तरह व्यवस्थित रहें :  प्रेस किये कपड़े, पॉलिश से चमकते जूते और बिल्कुल सधे हुए बाल। हाँ क्यों नहीं आप ऐसे ही तो जाते थे अपने ऑफिस। तो अब क्यों नहीं। रिटायर हुये तो क्या हुआ,  रोज़ इसी तरह तैयार हों और अपने आप को व्यवस्थित रखें। क्योंकि ये सब आपको खुशी देगा।

                                                                                          

खुद को व्यस्त रखें : ये न सोचें कि रिटायर होने के बाद आपके पास कोई काम नहीं है। अपने आप को व्यस्त रखने की कोशिश करें। आप चाहें तो अपने शौक का कोई काम कर सकते हैं, जैसे कि सुबह-शाम सैर पर जाना, गार्डनिंग करना, किताबें पढ़ना। जितना आप अपने आप को व्यस्त रखेगे उतना ही आप स्वस्थ्य रहेंगे। क्योंकि ख़ाली दिमाग़ शरीर को बीमारियों का घर बना देता है।

                                        

सब से मेलजोल रखें : अब आप के पास समय ही समय है तो दिल खोल कर सब से मिलें। अब समय की भी कोई बंदिश नहीं है, अपने दोस्तों से मिलें, उनके साथ समय बितायें, अगर आप के बच्चे शहर से बाहर हैं तो आप उनका इंतजार न करके वीकेंड पर उनसे मिलने जा सकते हैं।

 

अपना रिश्ता समझदारी से निभायें : रिश्ते हमेशा दोनों तरफ से निभाये जाते हैं ये पहल दोनों तरफ से की जाए तो रिश्तों की डोर मज़बूत होती है। मज़बूत रिश्तों के साथ जीवन आसान और सुखमय हो जाता है। हमेशा दूसरों के आने का, दूसरों के फोन का इंतज़ार न करें बल्कि खुद पहल करें।

                                                                                                       

समय के साथ चलें : आप बोरियत से बचने के लिए सोशल मीडिया का सहारा भी ले सकते हैं। अगर आपको इस बारे में जानकारी नहीं है तो आप सिख सकते हैं, नई चीज़े सीखेंगे तो मन में उत्साह बढ़ेगा और आप अपने आप को दुनियाँ से जुड़ा हुआ महसूस करेंगे। सोशल मीडिया का सीमित ही सही लेकिन इस्तेमाल ज़रूर करें।

Comment



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED