उफ्फ, गोवा के ये लुभावने बीच

उफ्फ, गोवा के ये लुभावने बीच

गोवा| गोवा अपने समुद्र तटों के लिए दुनियाभर में मशहूर है। चमकती रेत, आसमान छूते नारियल के पेड़, बड़ी-बड़ी समुद्री लहरें और शानदार सी-फूड... बस गोवा का नाम लेते ही आंखों में ये सब बस जाता है। और वहां गए लोग भी मानते है कि गोवा के समुद्र तट वाकई मनमोहक हैं। वहां के लुहावने बीच भी बहुत लोकप्रिय है। अब ये तो वही बता सकते है जो वहां घूम कर आएं है। गोवा के बीच यहां आने वाले के मन में शांति भर देते हैं।

पणजी:
अब बारी आती है गोवा की राजधानी पणजी। पणजी छोटा शहर जरूर है लेकिन बेहद खूबसूरत है। यह शहर चांदी-सी चमकती धाराओं वाली मांडवी नदी के किनारे बसा है और लाल छतों वाले मकान, खूबसूरत बगीचे, अद्भुत शिल्पकारी वाली मूर्तियां, खूबसूरत गुलमोहर और हरे-भरे पेड़ों की छाया के लिए जाना जाता है। हर कोई यहां की खूबसूरती में खो-सा जाता है। इसके अलावा मारगाओ, वास्को डिगामा तथा मार्मुगाओ हार्बर जैसी जगह घूमकर सफर का पूरा लुत्फ उठाया जा सकता है।
मीरामार बीच:
पणजी के बाद मीरामार बीच जो पणजी के नजदीक से सिर्फ 3 किलोमीटर दूर स्थित इस खूबसूरत सुनहरे समुद्री तट की मुलायम रेत, ताड़ के पेड़ और अरब सागर की नीली छटा देखकर हर कोई मंत्रमुग्ध हो जाता है। 
मोबोर बीच:
रोमांच बेहद पसंद करने वाले टूरिस्टों के लिए मोबोर बीच सबसे बढ़िया जगह है। यह गोवा के सबसे फेमस बीच में से एक है। यहां पर्यटक कई एडवेंचरस खेल जैसे वॉटर स्कीइंग, वॉटर सर्फिंग, जेट स्की, बनाना-बम्प राइड और पैरासिलिंग का मजा लेते हैं।
वागातोर बीच:
वागातोर बीच मापुसा रोड के पास नॉर्थ (उत्तर) गोवा में पणजी से 22 किलोमीटर दूर है। यह गोवा के बाकि तटों के मुकाबले कम भीड़ वाली और अलग सी जगह है। इसमें सफेद रेत, काली लावा चट्टानें, नारियल और खजूर के पेड़ की सधी कतारें हैं। साथ ही यहां 500 साल पुराना पुर्तगाली किला है। आज के दौर की इमारतों के बीच इसका दीदार रोमांचकारी लगता है। वागातोर का यह सफेद रेतीला बीच 'बिग वागातोर' और 'लिटिल वागातोर' के नाम से भी जाना जाता है और यह चपोरा किले की ऊंचाई से खूबसूरत दिखाई देता है। 
इमेक्यूलेट कंसेप्शन चर्च और रिस मगोस फोर्ट:
इस चर्च और फोर्ट की कहानी काफी पुरानी है। इमेक्यूलेट कंसेप्शन चर्च और रिस मगोस फोर्ट, अवर लेडी ऑफ इमेक्यूलेट कंसेप्शन चर्च गोवा में बनने वाला पहला चर्च था। यह 1541 से है। पहले बना चर्च पूरी तरह नष्ट हो गया था और इसे फिर से 1619 में बनाया गया। तब यहां आबादी नहीं के बराबर थी। 
मोरजिम बीच:
मोरजिम बीच को पर 'टर्टल बीच' के नाम से भी जाना जाता है। यह नॉर्थ गोवा के परनेम में है। इस बीच में हरे-भरे वातावरण के साथ एक खूबसूरत और ठंडा रास्ता भी है। मोरजिम बीच इसलिए भी खास है क्योंकि यह कछुए की लुप्त होती प्रजाति 'ओलिव रिडले' के रहने की जगह और प्रजनन स्थान है। इस बीच पर दिखने वाले छोटे छोटे कछुए और केंकड़े आप का अनुभव यादगार बना देते हैं।
बेटलबटीम बीच:
'सनसेट' देखना अपने आप में एक अलग और दिल में बस जाने वाला मनमोहक अनुभव होता है। उस पर भी अगर सूर्यास्त बेटलबटीम बीच का हो तो सुंदरता कल्पना से परे है। मजोरडा बीच के दक्षिण में स्थित बेटलबटीम बीच गोवा के सबसे सुंदर बीचों में से है। शानदार सनसेट की वजह इसे ‘सनसेट बीच ऑफ गोवा’ भी कहा जाता है।
बोंडला वाइल्डलाइफ सेंचुरी:
बारिश के मौसम में गोवा जा रहे हैं तो अपने पसंदीदा जानवरों को करीब से देखने के लिए बोंडला वाइल्डलाइफ सैंचुरी एक बार जरूर जाएं। गोवा की यह छोटी लेकिन मशहूर सेंचुरी शहर के उत्तरपूर्वी इलाके में पोंडा तालुका में है। 
बागा बीच:
गोवा में वैसे तो कई आकर्षक बीच हैं और यहां का नाम लेते ही दिमाग में सुपर एडवेंचरस बागा बीच का नाम आता है। जिसको भी गोवा की खूबसूरती देखने का मौका मिला है वो मानता है कि बागा बीच सबसे रोमांचक बीचों में से एक है। 

पलोलेम बीच:
पलोलेम बीच साउथ (दक्षिण) गोवा के कानाकोना जिले में चैडी से 2 किमी दूर पश्चिम में स्थित है। कुछ सालों पहले तक पर्यटकों का इस बीच में आनाजाना नहीं था, लेकिन पिछले कुछ समय में यहां विकास हुआ और व्यवसायिक गतिविधियां बढ़ने के साथ ही लोगों की भीड़ बढ़ने लगी। कानाकोना के दक्षिणी तालुका में पश्चिमी घाट की ओर से खूबसूरत सूर्यास्त और सूर्योदय देखा जा सकता है। पलोलेम 

गोवा के चर्च:
चर्च तो सभी जगह के लोकप्रिय होते है लेकिन गोवा के चर्च भी काफी लोकप्रिय हैं। गोवा में रहे पुर्तगालियों के लंबे राज की वजह से यहां कई चर्च हैं। पूजाघर होने के अलावा यह चर्च पिछले समय की खूबसूरत वास्तुकला का नमूना भी है।

सेंट कैथेड्रल चर्च:
सेंट कैथेड्रल चर्च गोवा का सबसे प्राचीन, सबसे बड़ा और सबसे सुंदर र्चच है जिसमें पांच घंटे लगे हैं। इसका एक सोने का घंटा गोवा में सबसे बड़ा है और दुनिया के कुछ सबसे अच्छे घंटों में से एक है। इसके अलावा र्चच ऑफ सेंट फ्रांसिस, सेंट आगस्टीन टॉवर, र्चच ऑफ आवर लेडी ऑफ रोजरी भी हैं। 

चपोली डैम:
मडगांव से 40 किलोमीटर दूर चपोली डेम पहाड़ों से घिरी घाटी में होने की वजह से प्राकृतिक आकर्षण से भरपूर है। अगर आपको मछली पकड़ना पसंद है तो यह ईको-टूरिस्ट स्पॉट आपके लिए सही है। इस डेम पर कई और नए अनुभव आपको मिलते हैं। 

महालक्ष्मी मंदिर:
गोवा के बंडोरा गांव में महालक्ष्मी मंदिर है। इस मंदिर का खूबसूरत चैक इसका बड़ा आकर्षण का केंद्र है। इस मंदिर का निर्माण 1413 ईस्वी में हुआ था और देश भर से लोग इसे देखने आते हैं। नवरात्रि का उत्सव यहां खासतौर से और पूरे उत्साह के साथ मनाया जाता है और नवरात्रि के समय यहां काफी भीड़ होती है। 

मंगेशी मंदिर:
गोवा का मंगेशी मंदिर मॉर्डन और पुरानी हिंदू वास्तुकला का मिलाजुला नमूना है। यह मंदिर भगवान शिव के अवतार भगवान मंगेशी को समर्पित है। कहानियों के अनुसार स्वयं भगवान ब्रह्मा ने यहां लिंग की स्थापना की थी। हर सोमवार को यहां भगवान की मूर्ति की यात्रा निकाली जाती है। जो बड़े ही हर्ष उल्लास के साथ मनाया जाता है।

Comment



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED