समय समय पर जांच जरूरी

समय समय पर जांच जरूरी

उफ़्फ़ ये सेहत : 40 की उम्र के बाद ज़रूरी टेस्ट - उम्र बढ़ने के साथ-साथ कई बीमारियां शरीर को घेर लेती हैं। अगर समय रहते बीमारियों का पता चल जाये तो बहुत सी परेशानीयो से बच जा सकता है। इसके लिए समय-समय पर ज़रूरी टेस्ट करवाते रहना चाहिये।

                                                                                          

सीबीसी टेस्ट : इसका मतलब है कम्प्लीट ब्लड काउंट टेस्ट। इस टेस्ट के द्वारा लिवर, हार्ट और किडनी की बीमारियों के बारे मे पता लगाया जा सकता है। इसमें खून में मौजूद सेल्स की जांच की जाती है क्योंकि सेल्स की कमी या अधिकता स्वास्थ्य समस्याएँ खड़ी कर सकती है।

                                                             

थायरॉइड टेस्ट : पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं में थायरॉइड की समस्या अधिक पाई जाती है। थाइरॉइड ग्रंथि उन हॉर्मोन का निर्माण करती है जो शरीर के मेटाबोलिज़्म को नियंत्रित करते हैं। अधिक मात्रा में थायरॉइड हार्मोन के निर्माण को हाईपरथेरोइडिज़्म तथा हार्मोन निर्माण की कमी को हाइपोथायरायडिज्म कहते हैं।

                                                             

ब्रेस्ट एग्जामिनेशन टेस्ट : 40 की उम्र के बाद ब्रेस्ट कैंसर की आशंका बढ़ जाती है इस लिए हर दो साल के अंतर पर मैमोग्राफी टेस्ट ज़रूर करवा लेनी चाहिए।

                                                                                    

स्क्रीनिंग टेस्ट : पेप स्मीयर टेस्ट सर्वाइकल कैंसर की जांच के लिए होता है। 40-45 के बाद इस  टेस्ट को ज़रूरी टेस्ट में शामिल किया जाना चाहिए। ये टेस्ट यूट्रस और उससे जुड़ी नलियों के इन्फेक्शन और सूजन के बारे में बताता है।

                                                             

Comment



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED