बांधवगढ़ नेशनल पार्क

बांधवगढ़ नेशनल पार्क

मध्यप्रदेश : विश्व विख्यात बांधवगढ़ नेशनल पार्क इन दिनों बाघों के प्रजनन के लिए जाने जाना वाला पार्क बनता जा रहा है विशेषज्ञों की माने तो यहाँ पर बाघों के रहने खाने व प्रजनन की प्रक्रिया को लेकर सारी व्यवस्थाये पार्क प्रबंधन के द्वारा बनाई जाकर व्यवस्थित कर चुके है अगर प्रजनन के द्वारा नवजात शिशु की माँ की मौत हो जाती है या माँ बच्चो को छोड़ देती है तो यहाँ पर उचित वातावरण तैयार कर उन बच्चो को जवानी अवस्था में लाने के लिए बड़े बड़े बाड़े बनाकर उन्हें संरक्षित किया जाता है मध्यप्रदेश के विंध्य पर्वत के बीचो बीच उमरिया जिले में फैला बांधवगढ़ नेशनल पार्क बाघों और अपनी जैव विविधता के लिए जाना जाता है।बांधवगढ़ अभयारण्य मध्य प्रदेश का सबसे प्रसिद्ध राष्ट्रीय उद्यानों में से एक है. इसे 1968 में राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया था. तब 105वर्ग किलोमीटर फैले इस उद्यान का दायरा अब 437 वर्ग किलोमीटर का हो चुका है. करीब 437 किमी तक फैले इस पार्क में लहलहाते हुए जंगल,खड़ी चट्टानें और खुले मैदान हैं। पार्क में कई ऐसे स्थान हैं जो टूरिस्ट स्पॉट का काम करते हैं। बांधवगढ़ नेशनल पार्क में स्तनपाई की 22 प्रजाति सहित पक्षियों की 250 प्रजातियां पाई जाती हैं। इस अभ्यारण्य में घूमने पर आप बाघएशियाई सियारधारीदार लकड़बग्घाबंगाली लोमड़ीराटेलभालू,जंगली बिल्लीभूरा नेवला और तेंदुआ सहित कई तरह के जानवर देख सकते हैं। इसके अलावा कुछ स्तनपाई जैसे गिलहरीधोलेछोटा चूहा और छोटा भारतीय कस्तूरी भी यहां कभी-कभार देखने मिल जाएंगे।`यहां बाघ के अलावा कई स्तनधारी जीव भी पाये जाते हैं. चीतलसांभरहिरणजंगली कुत्तेतेंदुएंभेड़िएसियारलोथ बियरजंगली सुअरलंगूर और बंदर यहां बड़ी ही आसानी से देखे जा सकते हैं. सरीसृपों में किंग कोबराक्रेट,वाइपर जैसे सांपों एवं पक्षियों जैसे तोतामोरबगुलाकौआहॉर्नबिलबटेरउल्लू आदि शामिल हैं।

Comment



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED