अपहरणकांड पर पुलिस का अभियान

अपहरणकांड पर पुलिस का अभियान

सतना (मप्र) : आमतौर पर वाहनों में नम्बर लिखने का काम आरटीओ विभाग का होता है। मगर चित्रकूट से मासूम जुड़वां भाइयों के अपहरण और उनकी हत्याकांड में 4-4बाइकों के इस्तेमाल के बाद पुलिस की उन बाइकों पर खास निगाह पड़ी जिनके प्लेट में नम्बर ही नहीं पड़े हैं। पुलिस ने ऐसे वाहनों की धरपकड़ शुरू की और उनके रजिस्ट्रेशन कार्ड को देखकर पेंटर से नम्बर लिखवाने का काम शुरू किया। चित्रकूट में एक परिवार की खुशियां पीटने के बाद अब पुलिस लकीर पीट रही है। मासूम जुड़वां भाइयों को अगवा कर उनकी हत्या के बाद पुलिस ने उन बाइकों को टारगेट करना शुरू कर दिया जिनकी नम्बर प्लेट में गाड़ी का रजिस्ट्रेशन नहीं लिखा। दरअसलअपहरणकांड में चार बाइक और एक बुलेरो गाड़ी का इस्तेमाल किया था। यह अभियान पूरे जिले में चलाया गया। पुलिसवालों ने चुन-चुनकर बगैर नम्बर वाली बाइक और स्कूटरों को पकड़कर खड़ा करा लिया। बाइक सवारों से पहले रजिस्ट्रेशन कार्ड मांगा गया और फिर उस कार्ड के आधार पर उनके नम्बर प्लेट में रजिस्ट्रेशन नंबर लिखा गया। नम्बर लिखने के लिए पुलिस प्रशासन ने बकायदा पेंटरों की व्यवस्था की थी। इस काम में आरटीओ संजय श्रीवास्तव और सिटी मजिस्ट्रेट संस्कृति शर्मा मैदान पर डटे रहे। खबर है कि ऐसा उच्चाधिकारियों के निर्देश पर किया जा रहा है। बाइक के बाद बगैर नम्बर वाले चार पहिया वाहनों के खिलाफ अभियान चलाया जाएगा।

 

Comment



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED