आदिवासियों के साथ हुआ धोखा

आदिवासियों के साथ हुआ धोखा

मध्यप्रदेश : छिंदवाड़ा जिले का पातालकोट अपनी अलग पहचान बनाए हुए हैं। आज भी वैज्ञानिक युग को पीछे छोड़ते हुए पातालकोट में भरिया जनजाति के लोग समुद्र तल से 3000 फुट की ऊंचाई पर स्थित है। पातालकोट स्तर प्राकृतिक का एक अद्भुत चमत्कार है। छिंदवाड़ा नगर से 69 किलोमीटर की दूरी पर विकासखंड तामिया में पातालकोट स्थित है यहां समुद्र तल से 2750 से 3250 फीट की ऊंचाई पर स्थित है इसकी गहराई में 12 ग्राम बसे हुए हैं जिसमें भारिया जाति के आदिवासी निवास करते हैं और जिले में इसे पर्यटन के विकास के रूप में विकसित करने के लिए प्रवेश की पूर्व सरकार बीजेपी ने यहां पर 4 वर्ष पहले हर साल खेल महोत्सव का आयोजन कराया था। जिसमें विभिन्न प्रकार के खेल कराए गए। इन खेलों को कराने का मकसद था कि भरिया आदिवासी के समुदाय के लोग ही भाग लें। साथ ही विकास के रूप में इस जगह को विकसित करने के लिए प्रवेश की पूर्व सरकार बीजेपी ने 4 वर्ष पहले यहां विभिन्न प्रकार के आयोजन कराए गए थे। साथ ही इन खेलों को कराने के लिए प्रशासन ने यहां निवास कर रहे भरिया जनजाति आदिवासियों के लोगों से खेल के नाम पर जमीन ली थी लेकिन प्रदेश में अब नई सरकार बन गई है। इस नई सरकार के सामने भारिया जनजाति आदिवासी के लोगों की जमीन को गलत तरीके से दिल्ली के किसी एक निजी कंपनी को पूर्व की सरकार ने मात्र 1100000 रूपये में लीज में दे देने का मामला सामने आया है। इसके बाद से भरिया जनजाति आदिवासी के लोग आक्रोश व्याप्त करते हुए कंपनी द्वारा जमीन के चारों ओर तार से फेंसिंग बना दिया गया है इसके चलते भरिया जनजाति आदिवासी को आने जाने पर भी प्रतिबंध लगाया गया है साथ ही इस कंपनी ने अपने यहां भरिया आदिवासी बच्चों को काम पर रखा है साथ ही उनसे झूठे बर्तन भी दिलवाया जा रहे हैं। कलेक्टर कार्यालय पहुंचने के बाद भरिया आदिवासी ने अपनी जमीन वापस मांगने के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ जी के नाम कलेक्टर पहुंचकर ज्ञापन दिया और कंपनी की लीज समाप्त करने की बात कही इस दौरान बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

Comment



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED