उफ्फ, निडरता से किया जा रहा अवैध उत्खनन

उफ्फ, निडरता से किया जा रहा अवैध उत्खनन

सतना (मध्यप्रदेश)| मध्यप्रदेश के सतना जिले में अवैध उत्खनन रूकने का नाम नही ले रहा है। जिले की खनिज सम्पदा पर माफियाओं का कब्जा दिनो दिन बढ़ता जा रहा है। सतना जिले में संचालित रेत खदानों पर दबंगो का कब्जा है। प्रशासन दबंगो के सामने बिल्कुल बेबस और लाचार बना हुआ है। अथवा जानबूझकर माफियाओं को संरक्षण प्रदान कर रहा है। क्या कारण है कि माफियाओं का हौसला इतना बुलंद होता जा रहा है कि वह अधिकारीयों और पत्रकारो पर हमलों से भी गुरेज नहीं करता।

सतना जिले के कौहारी पंचायत में टमस नदी से खनिज माफियाओं द्वारा बालू का अवैध उत्खनन कराया जा रहा है। ट्रैक्टर ट्राली लगाकर बालू का परिवहन किया जा रहा है। शासन की नई नीती से जिले के लोगो को उम्मीद की किरण दिखी थी कि अब माफिया का राज समाप्त होगा और जिले वासियो सस्ते दाम पर आसानी से रेत उपलब्ध हो सकेगी। मगर वर्तमान के हालात को देख आम आदमी का सपना टूटता दिख रहा है। क्योकि सतना जिले में रेत खदानो में माफिया का राज कायम है तो शासन की नीती को ठेंगा दिखाते हुए नदियों से दिन रात बेखौफ होकर रेत निकाल कर जिले में सप्लाई की जा रही है। दर्जनो ट्रैक्टर ट्राली लगाकर रेत नदी से निकाली जा रही है मगर इसकी खबर किसी को नही थी। जब मीडिया ने इस खबर का कवरेज करने गई तो मीडिया का कैमरा देख रेत माफियाओं ने काम बंद कर दिया और मौके पर खड़े ट्रैक्टरो को नदी से हटा दिया है। जब इस पूरे अवैध उत्खनन की जानकारी लगी तो पता चला कि कौहारी ग्राम पंचायत के सरपंच पृथ्वीराज सिंह द्वारा अवैध उत्खनन कराया जा रहा है। मगर खनिज माफियों के हौसले इतने बुलंद है कि पत्रकारो को जान से मारने तक की धमकी फोन पर दे डाली। हालंकी इस पूरे मामले में खनिज अधिकारी की माने तो यह जानाकरी आपके द्वारा मिली है और इस पर दल बल के साथ खनिज माफियाओ पर कार्यवाही करेंगे। अब देखने वली बात होगी कि प्रशासन खनिज माफियाओं के खिलाफ क्या कार्यवाही करता है या ये माफिया इसी तरह फलते फूलते रहेंगे।

 

Comment



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED