उफ्फ, वर्दी हुई शर्मसार

उफ्फ, वर्दी हुई शर्मसार

शुजालपुर (मप्र) : शुजालपुर में यातायात सप्ताह में  पुलिस  जवानों की  संवेदनहीनता से खाकी वर्दी को शर्मसार करने वाली बड़ी घटना सामने आई है,  पुलिस बस की टक्कर से महिला की मौत के बाद घटना स्थल पर पुलिस बस में बैठे 27 पुलिस जवानो में से किसी ने घयालो की मदद नहीं की, गुस्साएं परिजनों  के साथ आक्रोशित भीड़ ने शुजालपुर के पुलिस थाना सिटी में खड़े पुलिस बस  पर पथराव किया है और 1 घंटे बाद से हंगामे के हालत बने हुए है। सड़क दुर्घटना में घायल लोगों को अस्पताल पहुंचाने की सीख देने वाली पुलिस  के जवानों की शुजालपुर में ये संवेदनहीनता उस समय सामने आई जब शुजालपुर में पुलिस बस की टक्कर से महिला घायल होकर सड़क पर लहूलुहान  पड़ी रही। घटना के पुलिस जवानो से भरी बस रुकी, कुछ जवान नीचे उतरे लेकिन किसी ने मदद नहीं की। घायल को अस्पताल पहुंचाने के बजाय सभी 27 जवान पुलिस बस में बैठ सिटी पुलिस थाना पहुँचे। इधर महिला की मौत के बाद परिजनों व ग्रामीणों ने पुलिस थाना पर टक्कर मारने वाले वाहन पर पथराव कर हंगामा किया। पुलिस ने महिला की मौत पर मर्ग कायम किया है, लेकिन पुलिस बस का चालक देवेन्द्र पुलिस थाने में बैठा होने के बाद भी नामजद प्रकरण दर्ज नहीं  किया गया। आपको बता दे टक्कर मारने वाली पुलिस बस में गुना पुलिस एसएफ की 26 वीं बटालियन की सी कंपनी के 27 पुलिस जवान सवार थे ये जवान सोमवार को अमावस्या के स्नान कर नेमावर में विशेष ड्यूटी करने के बाद जब खुजनेर की तरफ जाते समय शुजालपुर से गुजर रहे थे तब ये हादसा हुआ है। घटना में ग्राम  निपानिया देव से पति चंदर सिंह के साथ बाइक पर पीछे बैठ पेट का इलाज कराने शुजालपुर आ रही द्रोपती बाई गेहलोत की मौत हो गयी और पति चंदन सिंह को भी हाथ-पैर में चोट आई है। घटना के बाद शुजालपुर का 108 वाहन खराब होने से समय पर एम्बुलेंस भी नहीं पहुंची जिससे समय पर प्राथमिक चिकित्सा नहीं मिल सकी। पुलिस का हंड्रेड डायल वाहन पहुंचा लेकिन कोई मदद नहीं कर सका। भीड़ ने सिटी पुलिस थाना पर पुलिसकर्मियों द्वारा मदद की जगह भागने पर खूब खरी खोटी सुनाई। टक्कर मारने वाली पुलिस बस पर पथराव से कोई नुकसान नहीं हुआ। 

Comment



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED