सीआरपीएफ जवानों पर विस्फोट हमला

सीआरपीएफ जवानों पर विस्फोट हमला

नई दिल्ली : जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में गुरुवार शाम हुए हमले में जैश के आतंकवादी ने विस्फोटकों से लदे वाहन से सीआरपीएफ जवानों को ले जा रही बस को टक्कर मार दी, जिसमें 42 जवान शहीद हो गए।  हालांकि यह पुष्टि नही हुई है कि यह संख्या कितनी हो सकती है और जवानों की पहचान भी नही हो पा रही है। जवानों के शव क्षत-विक्षत होने की वजह से उनके नाम की पुष्टि अभी  सीआरपीएफ टीम ने नही की है। बता दें यह 2016 में हुए उरी हमले के बाद हुआ सबसे भीषण आतंकवादी हमला है। केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के 2500 से अधिक कर्मी 78 वाहनों के काफिले में जा रहे थे। इनमें से अधिकतर अपनी छुट्टियां बिताने के बाद अपनी ड्यूटी पर लौट रहे थे। जम्मू कश्मीर राजमार्ग पर अवंतिपोरा इलाके में लाटूमोड पर इस काफिले पर अपराह्न करीब साढ़े तीन बजे घात लगाकर हमला किया गया।  हमले के मद्देनजर शुक्रवार को पीएम मोदी की अध्यक्षता में सुरक्षा पर कैबिनेट समिति (CCS) की बैठक हुई। बैठक में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, तीनों सेनाध्यक्ष और CRPF के डीजी ने भाग लिया। बैठक के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि पाकिस्तान को कूटनीतिक तौर पर अलग-थलग किया जाएगा। पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस लिया जाएगा। आतंक के समर्थकों को पछताना पड़ेगा।

सिविलियन वीकल्स अनुमति देना घातक साबित हुआ

दरअसल, सीआरपीएफ ने गुरुवार को अपने काफिले के रूट पर पूरी सावधानी बरती थी, लेकिन जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग के एक हिस्से को सिविलियन वीकल्स के प्रयोग की अनुमति देना घातक साबित हुआ। सीआरपीएफ ने ग्रेनेड हमले या अचानक से होने वाली फायरिंग को लेकर काफी सतर्कता दिखाई थी और रूट की पूरी तरह से जांच की थी। 

आपको बता दें कि पहले जब सुरक्षाबलों का काफिला चलता था, तब बीच में सिविल गाड़ियों को नहीं आने दिया जाता थे। लेकिन हालात ठीक हो रहे थे तो काफिले के बीच में या आगे-पीछे सिविल गाड़ियां भी चलती रहती हैं, जो खतरनाक साबित हुआ। सीआरपीएफ के एक अधिकारी ने कहा, 'स्थानीय नागरिक हमारी मूवमेंट से परेशानी ना महसूस करें,  इसलिए हमने उनकी गाड़ियों को काफिले के आस-पास चलने की छूट दे रखी थी। इस तरह से हमला करने का तरीका नया है और हैरान करने वाला है।' उन्होंने कहा कि सुरक्षाबल अब अपनी रणनीति में बदलाव करेंगे। 

 

 इस तरीके के आक्रामक कवरेज से निजी टीवी चैनल बचें - मोदी सरकार

पुलवामा में इस कदर आतंकी हमला हुआ कि शहीद हुए 40 से अधिक जवानों के शव क्षत-विक्षत हो गए। टीवी चैनलों पर इसको लेकर आक्रामक तरीके से कवरेज जारी है। इसे मोदी सरकार ने संज्ञान में लेते हुए  निजी टीवी चैनलों को आगाह किया है। सरकार की तरफ से सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने जम्मू कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार को हुए आतंकवादी हमले की पृष्ठभूमि में सभी टीवी चैनलों से ऐसी सामग्री पेश करने से बचने को कहा है,  जिससे हिंसा भड़क सकती हो अथवा देश विरोधी रुख को बढ़ावा मिलता हो। मंत्रालय की ओर से जारी परामर्श में कहा गया, ‘‘हालिया आतंकवादी हमले को देखते हुए टीवी चैनलों को सलाह दी जाती है कि वे ऐसी किसी भी ऐसी सामग्री के प्रति सावधान रहें जो हिंसा को भड़का अथवा बढ़ावा दे सकती हैं अथवा जो कानून व्यवस्था को बनाने रखने के खिलाफ जाती हो या देश विरोधी रुख को बढ़ावा देती हो या फिर  देश की अखंडता को प्रभावित करती हो। ''मंत्रालय ने कहा कि सभी निजी चैनलों को इसका कड़ाई से पालन करने का अनुरोध किया जाता है।

अमेरिका,  देशों में आतंकवादियों को नहीं दें सुरक्षित पनाह और समर्थन-   

अमेरिका ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में हुए आतंकवादी हमले  की शुक्रवार को निंदा करते हुए सभी देशों से आतंकवादियों को सुरक्षित पनाह और समर्थन नहीं देने की अपील की। यह हमला पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश ए-मोहम्मद ने किया है। बृहस्पतिवार को हुए हमले में केंद्रीय आरक्षित पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 40 से ज्यादा जवान शहीद हो गए जबकि कई अन्य घायल हुए हैं।  जैश के एक आत्मघाती हमलावर ने पुलवामा जिले में सीआरपीएफ की एक बस में विस्फोटक लदे वाहन से टक्कर मार दिया।  जिससे हुए विस्फोट में सैनिक शहीद हुए हैं।  हमले की निंदा करते हुए अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि वह किसी भी रूप में आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए भारत सरकार के साथ काम करने को प्रतिबद्ध है। शहीद जवानों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए अमेरिकी विदेश मंत्रालय के उप प्रवक्ता रॉबर्ट पैलाडिनो ने कहा, "भारतीय राज्य जम्मू कश्मीर में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकवादी हमले की अमेरिका कड़े शब्दों में निंदा करता है।

राजनेताओं ने ट्वीट कर की संवेदना जाहिर-

सभी राजनेताओं ने ट्वीट कर कहा, सीआरपीएफ के काफिले आतंकवादी संगठन जैश ए-मोहम्मद के इस हमले की हम कड़ी निंदा करते है और इस आतंकी हमले की निंदा करने के लिए कोई शब्द पर्याप्त नहीं है। इस आतंकी हमले की निंदा करने के लिए कोई शब्द पर्याप्त नहीं है। हम सभी शहीद हुए जवानों के परिवार के साथ है, औऱ जो घायल जवान है उनके जल्द होने स्वस्थ होने की कामने करते है।

पीएम मोदी ने कहा, 'पुलवामा में सीआरपीएफ कर्मियों पर हमला घृणित है। मैं इस नृशंस हमले की कड़ी निंदा करता हूं। हमारे बहादुर सुरक्षाकर्मियों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। पूरा देश बहादुर शहीदों के परिवारों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है। घायल जल्दी ठीक हों।

Comment



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED