साँप वाला बच्चा

यहाँ पढ़ें...

रतलाम (मप्र) : उम्र की पायदान पर वह महज़ 9 सीढियां ही चढ़ा है लेकिन हिम्मत ऐसी की देखकर अच्छे अच्छे दांतो तले उंगली दबा लें । आप भी इस बच्चे के खिलानो को देख लें तो बहुत संभव है कि कंपकंपा जाये | आज जहां आम बच्चे सांप का नाम सुनते ही कोने में दुबक जाते हों ..मगर यह बच्चा तो सबसे जुदा है | जी हां....यह बच्चा आम बेजान खिलोनों से नही बल्कि सांपो से खेलने का शौकीन हैं । वो भी ज़हरीले साँप.....। 13 फ़ीट बड़े ज़हरीले सांप को यह बच्चा खेल ही खेल में काबू में कर चुका है । मात्र तीन साल के इस जहरीले जीव के लिये समर्पित रहने वाले अदभुत बच्चे का नाम है ..समर्पण मालवीय ...| समर्पण मप्र के रतलाम जिले के ग्राम पिपलोदा में रहता है | बच्चे के पिता गणेश मालवीय लगभग 9 साल से सांप पकड़ने का काम कर रहें हैं | समर्पण जब बहुत छोटा था तबसे ही उसके पिता घर पर जख्मी सांप पकड कर लाते थे...उनका इलाज करते और फिर वापिस जंगल में छोड़ आते | समर्पण पिता के इस काम को बड़े ध्यान से देखता रहता था | धीरे धीरे उसकी रूचि भी बढती गई और तीन साल की उम्र में पहला सांप पकड लिया | खतरों को देखते हुये... पिता और अन्य घरवालों ने समर्पण को इस काम से दूर रहने की ताकीद दी लेकिन समर्पण को तो मानो सांप प्रजाति से एक अलग ही मोह हो गया था | बार बार मनाही के बावजूद समर्पण ने अपना शौक नही छोड़ा | समर्पण के दोस्त भी उसके सांप पकड़ने की कला को देखकर हैरान रह जाते है | उनका कहना है कि समर्पण आसानी से सांप को काबू कर डिब्बे में बंद कर देता है | समर्पण बातों ही बातों में एक सकरात्मक सन्देश देते है कि सांप इंसानों दुश्मन नहीं बल्कि दोस्त है | समर्पण चाहता है कि आम इन्सान भी सांप को समझे | वह आजकल वन्य जीवों से बचाने की मुहीम में भी जुटा है |

Comments



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED