क्यों है खास वृंदावन के प्रेम मंदिर की होली

यहाँ पढ़ें...

मध्यप्रदेश : वैसे तो होली की धूम पूरे देश में है और हर प्रान्त में रंगों का ये त्योहार अलग-अलग तरह से मनाया जाता है। उत्तर-प्रदेश में तो इस त्योहार की अलग ही मस्ती देखने को मिलती है। आपने अभी तक बरसाने की लठ्ठमार होली के बारे में तो बहुत सुना होगा लेकिन क्या आप जानते हैं कि वृंदावन की होली बहुत खास होती है। खासकर यहां के प्रेम-मंदिर में मनाई जाने वाली होली। वृंदावन में भगवान कृष्ण का बचपन बीता है, इसी वज़ह होली का जो रंग आपको यहां देखने को मिलेगा वो और कहीं नहीं मिलेगा। वृंदावन का ये प्रेम-मंदिर संगममर से बना हुआ है। कृपालु महाराज ने इस मंदिर को बनाने की घोषणा 2001 में ही कर दी थी। 2012 में ये मंदिर बनकर तैयार हो गया था। होली पर इस मंदिर में विशेष आयोजन किया जाता है। इस अवसर पर यहां पर राधा-कृष्ण का फूलों और रंगों से विशेष श्रृंगार किया जाता है। इसके बाद फूलों और प्राकृतिक रंगों की बौछार की जाती है। होली के इस भव्य आयोजन में शामिल होने के लिए देश-विदेश के लोग यहां आते हैं। इस मंदिर में गोवर्धन लीला, कालिया नाग दमन लीला, झूलन लीला सहित राधा-कृष्ण की मनमोहक झांकियां उद्यानों के बीच सजाई जाती हैं। इस मंदिर में कुल 94 स्तंम्भ हैं जो राधा- कृष्ण की विभिन्न लीलाओं से सजाये जाते हैं। यहां अधिकांश स्तंभों पर गोपियों की मूर्तियां अंकित हैं। तो अगर आप भी इस बार अपनी होली यादगार बनाना चाहते हैं तो वृंदावन के प्रेम-मंदिर की होली का अनुभव कीजिये। आपका ये अनुभव जीवन का एक अविस्मरणीय अनुभव होगा।

Comments



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED