शिव की उफ़्फ़.. उमा की ओफ्फो..

यहाँ पढ़ें...

समय की ताकत देखिये....मन आया तो किसी को अर्श पर पहुंचा दिया तो नज़र तिरछी हुई तो कोई फर्श पर आ गिरा । 
अब देखिए न ...वो 2003 था और यह 2019...वक्त थोड़ा बूढा ज़रूर हुआ लेकिन ताकत न घटी । 
याद कीजिये 2003 को दिग्ग्विजय जैसे धाकड़ नेता को मात देकर उमा उभरी थी । लगा कि अब उमा का कोई सानी नही । उमा के कद के आगे सब गौण हो गए । मप्र मतलब उमा...और उमा मतलब मप्र..। भाजपा नेताओं को उमा का नया रूप और कद सालने लगा । लेकिन एक अदालतीय मामले को लेकर अंदर से कुढ़ रहे नेताओं को मौका मिल गया । मौके तो भुनाया गया और उमा...को रवाना कर दिया गया । 
गौर आये...लेकिन चल न पाये । विकल्प विहीन भाजपा को अचानक ऐसा विकल्प मिला...जिसने इतिहास रच दिया..। शिवराज सिंह था वो...। शिव आये तो ...लेकिन झाड़ू लेकर...। जितने भी धाकड़ नेता थे सबको को एक एक करके झाड़ दिया । उमा को तो ऐसा छिटका गया कि उमा....शिव शिव करती तड़प कर रह गई । 
समय तेज़ी से घूमा । शिव साल दर साल मजबूत होते गए  । गौर से लेकर नरोत्तम मिश्रा तक को शिव ने चुटकियों में किनारे लगा दिया । 
हर जुबान पर एक बात... शिव का विकल्प तलाश करना मुमकिन नही दिख रहा था । शिव को प्रदेश के सियासत के पार प्रधानमंत्री पद की दौड़ में सबसे सशक्त उम्मीदवार माने जाने लगा । 
11 दिसंबर दिन था...। वक्त थोड़ा असहज था । अचानक करवट लेने लगा । शिव के जादू के हवा निकली । लगभग मरी पड़ी कांग्रेस सांसे लेने लगी । 
अचानक शिव कद घटने लगा । आसपास के लोग गायब हुए तो पार्टी कार्यालय में भी शिव कोने में दिखने लगे । 
इधर लोकसभा चुनाव में भोपाल सीट पर दिग्विजय सिंह की उम्मीदवारी घोषित होते ही भाजपा में सशक्त उम्मीदवारी की तलाश शुरू हुई । शिवराज का नाम आगे आया लेकिन पार्टी के नेता ही कल के धाकड़ नेता को चुका बताने लगे । खुद शिवराज भी चुनाव को लेकर असहज हो चले । 
उम्मीदवार की खोज में फिर उमा का नाम उभरा । पार्टी को दिग्गी का तोड़ सिर्फ उमा की उम्मीदवारी में दिखने लगा । 
यानी कि एक बार फिर वही समीकरण बनने लगे जो 2003 में थे । उमा का घटा कद फिर से अपने असल आकार में दिखने लगा । 
शिव अब मप्र की सियायत में फिर आड़ में चले । 
यही वक्त कहलाता है । कहा जाता है कि वक्त हमेशा अपने आपको दुहराता है ...तो देखिए फिर पुराने झरोखे में झांका जा रहा है...। लगता है कि 2003 फिर से 2019 का चोला पहन सामने आ खड़ा हुआ है

Comments



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED