उफ़्फ़...आखिर कितना ठगा जायेगा "किसान"

यहाँ पढ़ें...

<लोकसभा चुनाव के दौरान देश में राष्ट्रवाद तो मप्र में  किसान कर्ज़ माफी मुद्दा काफी गर्म है | कांग्रेस हो या बीजेपी किसान हितेषी साबित करने में दौड़े पड़े हैं लेकिन साफ दिखता है कि हितेषी कम और सियासी नौटंकी ज्यादा है | तो साहब ॥विधानसभा चुनाव जीतने के महज़ 10 दिन में कर्ज़ माफी किए जाने का ....वादा करने वाली कांग्रेस सफाई पर सफाई दिये जा रही है तो मुख्य विपक्ष भाजपा ...सरकार को झूठा और फरेबी करार देने में जुटी है | अभी तक सिर्फ बयान बाजी थी लेकिन अब फुल सियासी ड्रामा .. यानि कि आम चुनाव के समय वोट जुगाड्ने के लिए सारी कवायद 
पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज ने फिर इस मसले को लेकर कांग्रेस को घेरा | फिर क्या था ॥ सुरेश पचौरी की अगुआई में कांग्रेस का एक प्रतिनिधि मण्डल ...शिवराज के बंगले पर किसान कर्ज़ माफी के सबूत लेकर पहुँच गया | जिसने देखा ...हैरान   |गाड़ियों में सवार कांग्रेसी कार्यकर्ता अपने साथ बड़े बड़े बंडल लेकर आए थे | कांग्रेसियों का कहना था कि इन बंडलों में किसान कर्ज़ माफी से जुड़े किसानों की  सूची,मोबाइल नंबर हैं   | 
शिवराज को भी ये आशा तो न होगी | खैर कांग्रेसी नेताओ द्वारा लाये गए सबूतों को देखा ...हौले से मुस्कराये और बंगले के एक कोने में पटकवा दिये बंडल | निकले बाहर और अपने चिर परिचित अंदाज में ठोंक दिया बयान | शिवराज ने कहा कि कमलनाथ सरकार फरेब कर रही है ...जो सूची लेकर कांग्रेस नेता घूम रहें हैं वो बैंक द्वारा कर्ज़ माफ किए गए लाभर्थियों की सूची नहीं है बल्कि यह तो कृषि विभाग द्वारा तैयार की गई सूची है | 
दोनों दल एक दूसरे को सियासी पटखनी देने पर आमादा है और उधर मजबूर - मासूम किसान पिस रहा है | हर चुनाव में अन्नदाता चुनावी मुद्दा तो बन जाता है लेकिन उफ़्फ़  ...यह विडम्बना ही है कि सरकार बनते ही अगले पाँच साल के लिए भुला  ...भी दिया जाता है |

Comments



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED