मतदान करने से क्यों किया इनकार...?

मतदान करने से क्यों किया इनकार...?

सतना (मप्र) : एक ओर जहां भारत निर्वाचन आयोग ज्यादा से ज्यादा मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए स्वीप प्लान पर विशेष जोर दे रहा है तो वहीं एक तस्वीर ऐसी भी सामने आई। मध्यप्रदेश सतना जिले के मझगवां विकासखंड की एक ग्राम पंचायत के दो टोले (गांव) ऐसे भी हैं जिनके मतदाताओं को 20 किलोमीटर दूर जाकर मतदान करना पड़ता है। चुनाव चाहे ग्राम पंचायत का हो। जनपद पंचायत का, जिला पंचायत का हो या फिर विधानसभा अथवा लोकसभा का, हर चुनाव में इन दोनों टोला के मतदाताओं को 20 किलोमीटर दूर मतदान केंद्र जाना पड़ता है। इस बार के लोकसभा चुनाव में उड़ेली और सिमरहा टोला के बुजुर्गों ने मतदान करने से तौबा कर लिया है। पोलिंग बूथ दूर होने के कारण बुजुर्ग मतदाता मतदान करने से परहेज करने की बात कर रहे हैं। मतदाताओं की माने तो, इनती दूर हम मतदान करने किसी भी सूरत में नहीं जाएंगे। जिला मुख्यालय से तकरीबन 60 किलोमीटर दूर मझगवां विकासखण्ड अंतर्गत एक छोटा सा ग्राम पंचायत है पडऱी। इसी ग्राम पंचायत के अधीन नाइन पुरवा, भारतपुर, कबरिन, बहेलियन पुरवा, बंगीपुरवा एवं उड़ेली और सेमरहा गांव भी हैं। आबादी पूरी-पूरी 5 हजार है जबकि पिछले साल के आंकड़ों के मुताबिक मतदाता 1 हजार 8 सौ 89 है। सिमरहा और उड़ेली दो ऐसे टोला हैं जो मतदान केन्द्र बनने वाले माध्यमिक शाला पडऱी  से तकरीबन 20 किलोमीटर की दूरी पर हैं।  इतनी दूर बनाए गए पोलिंग बूथ की वजह से उड़ेली और सिमरहा टोला के मतदाता आजिज आ गए हैं। इस बार तो बुजुर्गों ने यह ऐलान कर दिया है कि यदि पोलिंग बूथ उड़ेली गांव के प्राथमिक शाला में नहीं बनाया गया तो वो 20 किलोमीटर दूर मतदान करने नहीं जाएंगे। गांव वालों का कहना है कि दस्यु प्रभावित इलाका है। ऐसे में कोई ऊंच-नीच हो गई तो कौन जिम्मेदार होगा। चुनाव होने की वहज से वाहन भी नहीं मिलते जिससे वो मतदान केन्द्र तक पहुंच सकें। सिमरहा और उड़ेली टोला को मिलाकर करीब साढ़े 3 सौ से ज्यादा मतदाता हैं।

 

Comment



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED