उफ्फ, सरकारी जमीन पर कब्जा

उफ्फ, सरकारी जमीन पर कब्जा

उज्जैन (मप्र) : सरकारी जमीन को मुक्त करवाने की जगह उस पर कब्जा बरकरार रखने की साजिश करना तहसीलदार अनिरूद्ध मिश्रा को भारी पड़ गया। प्रकरण में 11 फरवरी को कलेक्टर शशांक मिश्र को ऑडियो सौंप दिया है। जानकारी मिलने पर गुरुवार को संभागायुक्त अजीत कुमार ने तहसीलदार को जांच होने तक सस्पेंड कर दिया है। उज्जैन के हरिफाटक रोड स्थित सरकारी जमीन पर कब्जे का प्रकरण तहसील न्यायालय में चल रहा था। मामला सुर्खियों में आने पर तहसीलदार मिश्रा को कार्यवाही करना पड़ी। उन्होंने मामले में स्थगन तो दे दिया, लेकिन अतिक्रमणकर्ताओं का बचाव कर रहे कांग्रेस के नेता को जमीन पर कब्जा बचाने का रास्ता भी बता दिया। कहा कि उनके आदेश के खिलाफ एसडीएम से तुरंत स्टे आर्डर ले। तहसीलदार मिश्रा व कांग्रेस नेता का आडियो सामने आने पर अक्षर विश्व ने इसे कलेक्टर मिश्रा को सौंप दिया। उनसे जानकारी मिलने पर संभागायुक्त ने तहसीलदार को सस्पेंड कर आगामी आदेश तक के लिए कलेक्टर कार्यालय में अटैच कर दिया। प्रशासन अब जल्द ही नए तहसीलदार को पदस्थ करेगा, जिससे की कार्य प्रभावित न हो सके। कलेक्टर शशांक मिश्रा ने जमीन पर कब्जे को लेकर सामने आए ऑडियो को देखते हुए तहसीलदार को जांच होने तक सस्पेंड कर दिया है।

Comment



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED