मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद के दो अतंकी ढेर

मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद के दो अतंकी ढेर

जम्मू-कश्मीर : गत गुरुवार को हुए इस हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 44 जवान शहीद हो गये थे। जिसके बाद देश की जनता में पाकिस्तान के खिलाफ आक्रोश दिनों दिन बढ़ता जा रहा और जनता जानना चाह रही है की सरकार क्या नए और कड़े कदम अतंकवादियों के खिलाफ उठाएगी। जिसे देखते हुए सरकार ने देश की सेना के जवानों को स्वतंत्रा दी थी कि वे किस तरह से शहीद हुए जवानों का बदला लेती है। जिस पर जवानों ने एक मिशन चलाया और सोमवार को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों के साथ मुठभेड़ में भारतीय सेना के मेजर सहित चार जवान शहीद हो गए। वहीं सेना ने भी दो आतंकियों को मार गिराया है। इनमें से एक को पुलवामा हमले के लिए बम बनाने वाला संदिग्ध आतंकी बताया जा रहा है। बताया जा रहा है वह सीआरपीएफ टीम पर हमले वाले घटनास्थल से 15 किलोमीटर दूर है। सूत्रों के अनुसार, सोमवार को  मुठभेड़ में मारे गये दोनों आतंकवादी पुलवामा जिले में अवंतिपोरा के समीप श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पर फियादीन हमले की घटना में संलिप्त थे। गत गुरुवार को हुए इस हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 44 जवान शहीद हो गये थे। सोमवार सुबह सुरक्षा बलों के घेराबंदी और तलाश अभियान के दौरान मुठभेड़ में सेना के एक मेजर सहित चार जवान शहीद हो गए और एक नागरिक की मौत हो गई। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि खुफिया सूचना के आधार पर राष्ट्रीय राइफल्स (आरआर), जम्मू कश्मीर पुलिस के विशेष अभियान समूह (एसओजी) और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने पुलवामा के पिंगलन गांव में संयुक्त अभियान शुरू किया। सुरक्षाबलों के जवान जब गांव से बाहर निकलने के रास्ते बंद कर रहे थे, तभी  वहां छुपे आतंकवादियों ने उन पर अंधाधुंध गोलियां चलाना शुरू कर दी। गोलीबारी में मेजर डी एस डोंडियाल तथा सैनिक सेवा राम, अजय कुमार और हरि सिंह घायल हो गये। घायलावस्था में  उन्हें तत्काल 92 बेस अस्पताल ले जाया गया, जहां बाद में उनकी मौत हो गयी। एक अन्य घायल जवान गुलजार मोहम्मद का अस्पताल में भर्ती है। उन्होंने बताया कि मुठभेड़ स्थल के समीप एक नागरिक मुश्ताक अहमद की भी गोली लगने से मौत हो गई। सूत्रों ने बताया कि आतंकवादियों के गांव से बाहर निकलने के सभी रास्ते बंद कर दिए गए हैं। मुठभेड़ स्थल के समीप के घरों में रह रहे लोगों को सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया है। अतिरिक्त सुरक्षाबलों को मौके पर भेजा गया है। अंतिम सूचना मिलने तक दोनों ओर से लगातार गोलीबारी जारी है। इलाके में दो से तीन आतंकवादी छुपे हुए हैं। किसी भी प्रदर्शन को टालने के लिए आसपास के गांवों में अतिरिक्त सुरक्षाबलों और पुलिस के जवानों को तैनात किया गया है। 

Comment



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED