मजदूर जो बन गया हीरो

मजदूर जो बन गया हीरो

मध्यप्रदेश : UPSC में 53वीं रेंक हासिल कर #सुमित_विश्वकर्मा मध्यप्रदेश के सिवनी जिले का नाम रोशन किया है। लेकिन चौंकाने वाली बात है सुमित की कहानी टीवी चैनलों पर नहीं आई, क्योंकि सुमित को कोई पहचानता ही नहीं था और जो जानते थे, वो टीवी चैनल के पत्रकारों को नहीं जानते थे। मध्यप्रदेश के सिवनी जिले के निवासी सुमित विश्वकर्मा ने UPSC में 53 वी रैंक हासिल की है। वो किसी मजदूर का बेटा नहीं है, उसे पढ़ाने के लिए पिता ने लोन नहीं लिया बल्कि वो खुद मजदूर है और मजदूरी करते करते संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सर्विस परीक्षा में भाग लिया। 

मध्यप्रदेश में भवन निर्माण करने वाले मजदूरों को 'मिस्त्री' कहते हैं। सुमित विश्वकर्मा भी 'मिस्त्री' है। फाइनल इंटरव्यू में सुमित से पूछा गया...OK... का फुल फार्म क्या है? सुमित ने कहा Objections Killed ... यही अनूठी सोच और लगन से सुमित ने आज नामुमकिन को मुमकिन करके दिखाया और आईएएस IAS बन गया। सुमित विश्वकर्मा घँसोर जिला - सिवनी, मध्यप्रदेश का रहने वाला है। उसने UPSC में 53 वी रैंक हासिल की है। 

जिस कॉलेज में पढ़ा, उसी में मजदूरी भी की:-
सुमित की जिंदगी के संघर्षों का तो पूरा ग्रंथ लिखा जा सकता है परंतु एक प्रसंग उसे जिंदगी भर याद रहेगा। जिस इंजीनिरिंग कालेज में वो पढ़ते थे उसकी ही इमारत के निर्माण में वह मिस्त्री का काम भी करते थे। सुमित अपना घर चलाने के लिए अपने पिता के साथ भी मिस्त्री का काम करते है। बीई और एमटेक कर चुके सुमित अब देश के युवाओं के लिए एक मिसाल बनकर उभरे हैं।

Comment



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED