छिंदवाड़ा मॉडल की खुली पोल ! ढोल के अंदर बड़ी बड़ी पोल


छिंदवाड़ा मॉडल का नाम सुना है न आपने...?
ज़रूर सुना होगा ...।      विकास के क्या कुछ किस्से कहानी है साहब  ।
     अरे हां...इसी माँडल को तो दिखाकर कमल बाबू से लेकर पूरी कांग्रेस खूब हुलफुलाती है । लेकिन उफ्फ़...सिर्फ एक तस्वीर जिसने...दावों की ऐसी लंका लगा मारी कि ..उफ्फ़

    कमल बाबू के छिंदवाड़ा मॉडल का छिलका उतरा देखकर आपकी भी तबियत हरी से एक दम लाल हो जाएगी ।
   बाबू जी...जो कपड़े से बनी डोली देख रहें हैं न ...? इसमें कोई सामान नही बल्कि उफ्फ़...एक गम्भीर रूप से बीमार महिला है।
       बस नेताओं की कृपा रही साहब...जिसके चलते इस गांव की सीमा तक सड़क न झांक पाई । मुख्य सड़क पर पैर रखने के लिए दुर्गम रास्ते से गुजरना पड़ता है ।
      बदकिस्मती से इसी गांव में रहने वाली एक महिला बीमार हो गई ।
मजबूरी थी.. । परिवार को कपड़े की डोली बनाकर कांधे पर रख,दूसरे गांव तक लाना पड़ा । वहां से निजी वाहन की मदद लेकर अस्पताल का मुंह देखना नसीब हुआ ।
     चौंकिए मत..सौ टका छिंदवाड़ा मॉडल की ही  छीलन है...।
      तो गुरु.. पातालकोट क्षेत्र में बसा यह गांव घाना कोडिया है । आज़ादी के बाद साल दर साल गुजरते रहे लेकिन न तो स्थानीय जन प्रतिनिधियों और न ही सरकारों ने कृपा दृष्टि दिखाई  ।
  वीडियो वॉयरल हुआ तो सच फुदकता हुआ सामने आ गया ।
     माना कि पैकिंग शानदार,जानदार,कड़कदार हैं लेकिन अंदर का माल..उफ्फ़