कलेक्टर साहब ने किया ऐसा? कर्मचारियों की दीवाली हो गई..हैप्पी वाली


नरसिंहपुर कलेक्टर कार्यालय...

ठीक दीवाली के दिन छुट्टी के बावजूद कर्मचारी मौजूद थे। लेकिन काम की आपाधापी नही बल्कि खुशियों और उत्साह में डूबे आलम के बीच


वाकई ...नरसिंहपुर के छोटे कर्मचारियों की यह दीवाली बड़ी ही खास थी।
    इसलिए नही कि कोई बड़ा आर्थिक लाभ मिला हो बल्कि उन्हें सम्मान और वो प्रोत्साहन मिला...जो बेशकीमती था।
  कलेक्टर रोहित सिंह ने दीवाली पर अपने मातहतों का दिल बाग बाग कर दिया।
   बड़े साहब ने रामचरित मानस की चौपाई के माध्यम से एक गंभीर विषय को आसानी से समझाने का सफल प्रयास जो किया।
 कोई शक नही..कार्य में अंतर लोगों के दिलों दिमाग के बीच भी एक बड़ी खाई पैदा कर जाता है।
कोई सूटबूट वाला साहब तो कोई साधारण से कपडे पहना एक अदना कर्मचारी।

पहनावे,काम के तरीकों में भले ही अंतर हो लेकिन काम तो काम होता है।

न छोटा और न बड़ा।

इस अवसर पर कर्मचारियों को मिठाई एवं कपड़े भी उपहार में दिए गए।

  कलेक्टर बाबू के इस कदम की तारीफ तो बनती है। और यह आशा भी कि..इसी तरह के ठोस प्रयासों के चलते, काम को लेकर भेदभाव की सोच में आज नही तो कल पूरी तरह से बदलाव भी ज़रूर होगा।