मशहूर शायर मुनव्वर राणा के खिलाफ FIR , महर्षि वाल्मीकि से की तालिबान की तुलना


 कभी  शेरो ओ शायरी से लोगों को अपना मुरीद बनाने वाले शायर अब कभी इस थाने की तो कभी उस कचहरी की देहरी चढ़ते नज़र आएंगे | यह जनाब हैं..  मशहूर शायर मुनव्वर राणा | बुढ़ापे में दिमाग ने ऐसा साथ छोड़ा कि ज़ुबान से शेर नहीं बल्कि विवादास्पद बयान टपकने लगे | तालिबान की  वकालात करने के बाद राणा ने इन आतंकियों की तुलना महर्षि वाल्मीकि से कर डाली | 

 
शायर के खिलाफ FIR 
 
बयान उछला तो लोगों की भंवें तन गई | मुनव्वर राणा पर धार्मिक भावनाएं भड़काने का आरोप लगा | मामले ने तूल पकड़ा तो तालिबान की महर्षि वाल्मीकि से तुलना करने पर मध्य प्रदेश पुलिस ने उर्दू शायर मुनव्वर राणा के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज कर ली है | यह एफ़आईआर गुना में भाजपा के अनुसूचित जाति सेल के राज्य के महासचिव सुनील मालवीय और वाल्मीकि समुदाय के अन्य लोगों की शिकायत के बाद दर्ज की गई है | भाजपा नेता मालवीय का आरोप है कि राणा ने अपने बयान से महर्षि वाल्मीकि, हिंदुओं और वाल्मीकि समुदाय का अपमान किया है| 
 
कहाँ और क्या बयान दिया था मुनव्वर राणा ने ? 
 
 
उर्दू के मशहूर शायर मुनव्वर राणा ने एक न्यूज चैनल से बातचीत के दौरान कहा था, “वाल्मीकि रामायण लिखने के बाद भगवान बन गए, उससे पहले वो एक डकैत थे. एक व्यक्ति का चरित्र बदल सकता है. उसी तरह से तालिबान अभी आतंकी हैं लेकिन लोग और चरित्र बदलते हैं ” | 
                  यहाँ बयान आया और वहां जमकर बवाल हो गया | इसके पहले भी राणा पर उत्तरप्रदेश के एक थाने में शिकायत दर्ज़ हो चुकी है | मुनव्वर राणा की मौजूदा केंद्र सरकार से तल्खियां तो आम हैं |  लेकिन शायर साहब,सरकार के खिलाफ बोलते बोलते न जाने कब देश की धारा के विरुद्ध ही खड़े हो गए ? 
 
 |