BJP के मंत्री का बयान । जिसके चलते मच गया हंगामा


  कहतें है साहब..कुछ नेता पार्टी डुबोने की सुपारी लेते हैं।

लेकिन उफ्फ़.. कुछ ऐसे भी होते हैं,जो पूरा का पूरा गुटखा ही ले लेते हैं। और बस दिमागी कीड़े से पका कुछ ऐसा उगलते हैं कि उसकी सड़ांध से मतदाताओं का सिर घूम जाता हैं।

सिर्फ मतदाता नही बल्कि विपक्षी दल भी उस उगलन को मुद्दा बनाकर सियासी मैदान में मांझा सूत मारते हैं। कुछ दिन पहले ही भाजपा के प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव बोले थे..। ऐसा बोले कि पार्टी आज तक सफाई देने के लिए मज़बूर है।

एक मामला ठंडा भी न हुआ था कि मप्र सरकार में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने ज़ुबान उलट मारी। निशाने पर एक बार फिर सवर्ण समाज था। बहकते हुए मंत्री ने कहा कि.. ठाकुर ठकार अपने घर की महिलाओं को समाज में कंधे से कंधा मिलाकर चलने नही देते। बड़े बड़े लोग अपने घर की महिलाओं को कैद करके रखते हैं। जुबान यहीं नही थमी बल्कि आग में घी डालते हुए मंत्री ने यह तक कह डाला कि उच्च जाति की महिलाओं को घर से खींचकर निकालो।

मंत्री जी का बयान ऊपर टंगे वीडियो में सुन लीजिए 

वैसे दिमाग का कीड़ा पहली बार कुलबुलाया हो,ऐसा नही है। मंत्री बिसाहूलाल सिंह इसके पहले, चुनाव के दौरान कांग्रेस प्रत्याशी की पत्नी पर भी आपत्तिजनक टिप्पणी ठोंक चुके हैं।

धन्य हो...एक ओर तो भाजपा कार्यालय में विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर बैठक जम रही है तो दूसरी ओर सत्ता के नशे में डूबे मंत्री रायता फैलाने के मिशन में जुटे हैं।

वैसे अकड़ में जुबान पर पकड़ नही रहती लेकिन परिणाम उफ्फ़...सड़क पर लाने के लिए काफी होता है