तालिबान का दावा,सालेह जंग छोड़ कर भागे,पंजशीर पर भी अब तालिबानी परचम


अफगानिस्तान पर तालिबान द्वारा कब्जा किए समय हो चुका है | बनते बिगड़ते समीकरणों के बीच अब तक नई सरकार नहीं बन सकी है और न ही पंजशीर पर फतह का परचम बुलंद करने में सफलता हाथ लगी | लेकिन अब तालिबान ने जो दावा किया है वो चौकाने वाला है | 

तालिबान ने किया प्रेस कांफ्रेस करके यह बड़ा दावा 

तालिबान ने बाकायदा एक प्रेस कांफ्रेस आयोजित की और पूर्व उपराष्ट्रपति के साथ साथ पंजशीर को लेकर  बड़ा दावा ठोंक दिया है | तालिबान की माने तो जंग के दौरान सालेह पंजशीर में ही थे और उनकी मौजूदगी नेशनल रेसिस्टेंस फ़ोर्स (NRF) के साथ बनी हुई थी | 

तालिबान प्रवक्ता ज़बीहुल्लाह मुजाहिद ने काबुल में अपनी प्रेेस कॉन्फ़्रेंस के दौरान साफ किया कि उन्हें पुख्ता रूप से जानकारी हासिल हुई है कि सालेह अफ़ग़ानिस्तान छोड़कर ताजिकिस्तान भाग निकले हैं | हालांकि बीते सप्ताह खुद सालेह ने एक वीडियो जारी कर सफाई दी थी, कि वो घाटी छोड़कर नहीं भागे हैं और उनकी जंग जारी रहेगी | 

तालिबान प्रवक्ता ने अपनी बात को आगे बढ़ाते कहा आज पंजशीर जिन लोगों के नियंत्रण में था अब वो नज़र नहीं आ रहें हैं | तालिबान ने बड़ा दिल होने की बात कहते हुए आव्हान किया कि अफगानिस्तान उनका घर है,जो यहाँ से चले गए हैं,वो जब चाहें घर वापिसी कर सकते हैं | प्रेस कांफ्रेस में तालिबान ने यह भी साफ़ साफ़ शब्दों में कहा है कि,पंजशीर घाटी से जो भी हथियार,असलहा हाथ लगा है,वो अब उनके जखीरे में शामिल होगा | 

      तालिबान का दावा सच के कितने करीब है यह अब तक स्पष्ट नहीं हो सका है | पंजशीर और उपराष्ट्रपति की तरफ से दावों को कोई सफाई नहीं आई है |