देखिएगा हंसी आएगी ☺️ और सियासत से जुड़ा एक सबक भी मिलेगा


नेता जी पर नज़र फेंकिए क्या जोश है ...।
सियासत में जोश तो अपनी जगह उफ्फ़...होश ठिकाने पर होना बहुत ज़रूरी है ।
 बाबू जी को देखिए..नारे लगाने में घुटनों तक की  ताकत पेल दी ।
अरे साहब ताकत.. ? भाई ने तो होश भी खो दिए ।
अरे नेता जी सम्हल के ...लो, गयी भैंस पानी में

(एक नज़र उपर लटक रहे वीडियो पर भी फेंकिए । माज़रा बेहतर तरीके से समझ आ जाएगा)

    बड़े नेता की रैली हो तो छुटभैये नेताओं का जोश बल्लियों उछलने लगता है । झांकी जमाने के चक्कर में वो सब भी,जो कभी कभी ..भारी पड़ जाता है।
सोशल मीडिया पर छलांगे मारता वीडियो खरगोन जिले के चैनपुर का है ।
   शिव बाबू की जनदर्शन यात्रा थी । मजमा जमा था ...। स्थानीय भाजपा नेता जगदीश जायसवाल इतने उत्साहित हो गए कि ध्यान ही नही रहा कि उनके कदम मंच से कब बाहर जा पड़े । और परिणाम..धड़ाम से नीचे ।
लब्बोलुआव..सियायत है साहब यहां जोश नही होश मायने रखता अन्यथा..उफ्फ़