दूध के साथ इस चीज को मिलाने से होगा फायदा

दूध के साथ इस चीज को मिलाने से होगा फायदा

सेहत : ये तो हम सभी जानते हैं कि दूध पीना सेहत के लिए बहुत अच्छा होता है। ऐसा माना जाता है कि ढूध सिर्फ़ बच्चों को ही पीना चाहिए, पर ऐसा नहीं है। दूध बच्चों के साथ-साथ बड़ों के लिए भी बहुत फ़ायदेमंद होता है। और अगर इस दूध में दालचीनी मिलाकर पिया जाये तो ये बहुत अधिक लाभकारी होता है। दालचीनी में ऐसे कई एंटीओक्सीडेट्स होते हैं जो बीमारियों से बचाने में मदद करते हैं। रोज़ एक गिलास दूध में दालचीनी पाउडर मिलाकर पीने से सेहत कई फायदे होते हैं।

                                                          

1 : हड्डियों की मज़बूती : हड्डियों की मजबूती के लिए दालचीनी का दूध बहुत फ़ायदेमंद है। इस दूध को रोज़ पीने से गठिया रोग में भी लाभ होता है। इससे कोलेस्ट्रॉल लेवल नियंत्रित रहता है और दिल की बीमारियों की आशंका कम रहता है।

                                                           

 2 : हेल्दी बालों के लिए : दालचीनी पाउडर वाले दूध में मौजूद एंटी बैक्टीरियल और एंटी एम्फ्लेमेट्री गुड़ों से स्किन इंफेक्शन दूर करने में मदद मिलती है। जिन लोगों के बाल पतले होते हैं या समय से पहले सफ़ेद हो रहे हैं, उन्हें भी इस दूध से फ़ायदा होता है।

                                                       

3 : मोटापे से बचाव : यह दूध बीमारियों से बचाने के साथ ही मोटापा भी कम करने में भी मदद करता है। वज़न कम करने के लिए लो फैट दूध में दालचीनी पाउडर मिलाकर पीना फ़ायदेमंद होता है।

                                                     

4 : सर्दी जुकाम में राहत : इसमें मौजूद एन्टी इंफ्लेमेटरी गुण सर्दी ज़ुकाम को ठीक करते हैं। अगर आप को गले में दर्द है या टॉन्सिल्स की शिकायत है तो भी ये दूध आपके लिए फ़ायदेमंद है। इसे रात को सोने से पहले ज़रूर पियें।

                                                      

5 : डायबिटीज़ से बचाव : कई अध्ययनों से पता चला है कि दालचीनी पाउडर मे कई ऐसे कंपाउंड पाए जाते हैं जो ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। यह दूध ख़ासतौर पर टाइप-2 डायबिटीज के मरीज़ों के लिए भी फायदेमंद होता है।

                                         

Read more...

सोरायसिस, इन घरेलु चीजों से मिलेगा आराम

सोरायसिस, इन घरेलु चीजों से मिलेगा आराम

उफ़्फ़ ये सेहत : सोरायसिस में आराम मिलेगा इन घरेलू उपायों से। सोरायसिस एक त्वचा संबंधी रोग है। इस रोग में त्वचा के ऊपर एक मोटी परत जम जाती है। इसका सबसे ज़्यादा असर सिर की त्वचा पर होता है। शुरआत में ये कम रहता है पर धीरे-धीरे इसका इन्फेक्शन पूरे सिर में फ़ैल जाता है। डॉक्टरी इलाज के साथ-साथ आप कुछ घरेलू नुस्खे भी आज़मा कर इस बीमारी में आप आराम पा सकते हैं। तो आइए जानते हैं कुछ घरेलू नुस्खों के बारे में।

1. नारियल तेल : नारियल तेल को पहले थोड़ा कुनकुना कर लें फिर सिर की त्वचा पर हल्के हाथों से इसकी मालिश करें। इसे रात भर ऐसे ही रहने दें। फिर सुबह किसी माइल्ड शैम्पू से सिर को धो लें। इससे त्वचा में नमी आती है और सोराइसिस में आराम मिलता है।

                                   

2. दही : दही के फायदों को तो हम सभी अच्छी तरह से जानते हैं। ये जितना पेट के लिए फ़ायदेमंद है उतना ही अन्य चीजों के लिए भी। सोराइसिस में भी ये बहुत फ़ायदेमंद साबित होता है। ताज़े दही को 20 मिनिट के लिए सिर की त्वचा पर लगा कर रखें उसके बाद किसी अच्छे एंटीसेप्टिक शैम्पू से धो लें। इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो त्वचा के लिए फ़ायदेमंद हैं।

                           

3. एलोवेरा : एलोवेरा स्किन के लिए बहुत लाभकारी होता है। इससे चेहरे की गंदगी हट जाती है और चहरा ग्लो करने लगता है। सोराइसिस में भी एलोवेरा बहुत फ़ायदा करता है। एलोवेरा जैल को लैवेंडर ऑइल में मिलाकर सिर पर लगायें। इसकी हर मालिश के बाद किसी माइल्ड शैम्पू से बालों को धो लें। कुछ ही दिनों में इससे आराम मिलेगा।

                            

Read more...

चाय में इन चीजों को डालकर पीना होता है फायदेमंद

चाय में इन चीजों को डालकर पीना होता है फायदेमंद

उफ़्फ़यह सेहत : चाय आपकी न केवल सर्दी, खांसी, जुकाम और उल्टी जैसी समस्याओं को हल करती है बल्कि कैंसर जैसी बड़ी बीमारीओं के अलावा भी अन्य बहुत-सी स्वास्थ समस्याओं को हल करने और उनसे बचाने में मददगार साबित होती है लेकिन इसे तय सीमा में लिया जाये तो ही यह आपको फायदा पहुंचाती है। तय सीमा से मतलब है दिन में एक या दो बार ही चाय पीना चाहिये। इससे आपका स्वास्थय भी अच्छा रहेगा और स्वस्थ भी रहेंगे। क्यों न चाय में इन चीज़ों को मिलाकर टेस्टी बनाया जाए, जो आपके लिए बहुत फ़ायदे भी साबित हो सकती हैं।

 

1. अदरक : अदरक स्वाद में जितना अच्छा होता है उतना ही सेहत के लिए फ़ायदेमंद भी होता है। इसमें विटामिन सी और एन्टी-ओक्सीडेन्ट होते हैं जो चाय को बहुत हद तक स्वास्थ्यवर्धक बनाते हैं। अदरक का उपयोग करने से सर्दी-खाँसी जल्दी ठीक होने में भी मदद मिलती है।

                                              

2. लोंग, इलाइची : लोंग, इलाइची चाय को स्वादिष्ट तो बनाते ही हैं साथ साथ यह स्वास्थ्य की दृष्टि से भी बहुत फ़ायदेमंद हैं। लोंग, इलाइची की चाय गले की ख़राश और गला लगने की स्थति में बहुत लाभकारी होती है।

                                    

3. तुलसी की पत्ती : चाय में तुलसी के पत्ते डालने से उसमें एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा बढ़ जाती है। तुलसी की चाय पीने से पेट का दर्द भी ठीक होता है। एसिडिटी या कब्ज़ जैसी परेशानियों को दूर करने में भी तुलसी की चाय मदद करती है।

                                     

4. कालीमिर्च : अन्य चीजों की तरह कालीमिर्च की चाय भी बहुत फ़ायदेमंद होती है। ये स्वाद में थोड़ी तीख़ी ज़रूर होती है लेकिन इसे चाय में डाल कर पीने से गले का दर्द और सर्दी-जुकाम ठीक होता है और डाइजेशन भी ठीक रहता है।

                                     

5. अर्जुन की छाल : अर्जुन की छाल को पीसकर उसका पावडर बना लें। अर्जुन की छाल का पावडर चाय में डालकर पीने से कोलेस्ट्रॉल कम होता है, और यह दिल की बीमारियों से भी बचाव करता है। यह डाइबिटीज और हड्डी के रोगों में भी फ़ायदा पहुंचाता है।

                                                                        

Read more...

जानें, चॉकलेट के बारें कुछ खास बातें

जानें, चॉकलेट के बारें कुछ खास बातें

चॉकलेट : चॉकलेट रिश्तों में मिठास घोलने के साथ साथ मूड और सेहत का भी ख्याल रखती है।  वेलेंटाइन डे के साथ-साथ चॉकलेट डे भी आता है। चॉकलेट का नाम सुनते ही मुंह में पानी आ जाता है। चॉकलेट न केवल बच्चों और युवतियों की पसंद है, बल्कि यह अब जन्मदिन या किसी समारोह में दिए जाने वाले उपहारों में भी शामिल हो गई है। चॉकलेट अब इतने आकर्षक और अलग- अलग फ्लेवर्स में उपलब्ध हैं, कि आप कई बार चाह कर भी खुद को रोक नहीं पाते होंगे। वो ज़माना गया जब ये माना जाता था कि चॉकलेट सिर्फ़ बच्चे ही खाते हैं, आज तो चॉकलेट बच्चों से लेकर बूढ़ों को भी बहुत पसंद आती है। चॉकलेट खाने से एनर्जी फ़ील होती है, मूड भी अच्छा रहता है और गुस्सा भी कंट्रोल हो जाता है। एक रिसर्च से सामने आया है कि लगातार दो हफ्तों तक डार्क चॉकलेट खाने से तनाव कम होता है, तनाव को बढ़ाने वाले हार्मोन को नियंत्रित कर हाईब्लडप्रेशर संतुलित होता है। 2010 में हुए शोध के मुताबिक़ कोको में मौजूद  एंटीऑक्सीडेंट्स ब्लडप्रेशर को कम करता है। ज़्यादा मात्रा में चॉकलेट खाना दिल से जुड़ी समस्याओं को दूर करता है। वयस्कों के लिए चॉकलेट का सेवन करना बहुत फ़ायदेमंद होता है, चॉकलेट खाने से युवाओं को आत्मसंतुष्टि मिलती है, मानसिक स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है।  अगर आप भी अपने बच्चों के लिए चॉकलेट ख़रीदने जा रहे हैं तो एक चॉकलेट अपने लिए भी खरीदिये। जब भी आप तनाव में या डिप्रेशन में हों तो चॉकलेट जरूर खायें। इससे आपको कुछ ही देर में अच्छा महसूस होगा। भले ही आप वेलेंटाइन डे पर यक़ीन करें न करें चॉकलेट पर यकीन ज़रूर करेंगे। चॉकलेट आपके जीवन में मिठास के साथ-साथ आपकी सेहत को भी दुरुस्त कर देगी। ये तो हम सभी जानते है चॉकलेट एक ग्लूकोज़ ड्रिंक की तरह काम करता है। इसे खाने से कुछ ही देर में आपका एनर्जी लेवल बढ़ जाता है।

Read more...



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED