उमा का भैरेंट बयान । ब्यूरोक्रेसी पर शोले उगले और तपी होगी सरकार


मप्र की फायरब्रांड नेता और पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती एक फिर बोली ।
     ज़ुबान खुली तो इस बार शोले तो ब्यूरोक्रेट्स पर बरसे लेकिन आंच सरकार को तपा गयी होगी ।
सियासत के हाशिए पर जा पहुंची उमा भारती की बैचेनी साफ दिखती है । पहले शराबबंदी पर चटकी तो अब अफसरशाही पर धप्पा बोल मारा ।
नेत्री फरमाती हैं कि ब्यूरोक्रेसी कुछ नही होती ? वो तो हमारी चप्पल उठाती है ।

देवी जी ब्यूरोक्रेसी की औकात बताते हुए कहती हैं कि नेताओं को घुमाने वाली बात एक दम फालतू है । ब्यूरोक्रेसी नेता को घुमाती नही बल्कि अकेले में बात हो जाती है और उसके अनुसार फाइल बन कर सामने होती है ।

उमा का ज्ञान सोशल मीडिया पर जमकर भटक रहा है । मुख्यमंत्री, पूर्व केंद्रीय मंत्री के पद पर रह चुकी उमा के यह शब्द बेशक हवा में तो नही हो सकते है ।
साफ है ब्यूरोक्रेसी के नाम पर ठांय ठांय अपनों पर ही है ।
क्योंकि मप्र सरकार पर आरोप भी लगते हैं कि अफसरशाही बुलंद है ।
अब वीडियो के साथ भाजपा के अंदरखाने सियासत भी खलबलाने लगी है । अफ़सर भी नाक भौं सिकोड़ कर सनसना रहें हैं । ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि मप्र की सियासत में आगे क्या कुछ घटने वाला है ।