खजुराहो में खटपट । उलझी भाजपा

यहाँ पढ़ें...

जिसने सुना हैरान रह गया | बड़े बड़े दावेदारों को ठेंगा दिखाते हुये ...ये महराज कहाँ से आन गिरे | न कोई आधार और न ही सियासी समीकरण पूरा करने का माद्दा | लेकिन साहब संघ का आशीर्वाद हो तो सब कुछ संभव ...| भाजपा ने भोपाल,विदिशा जैसी कई सीटो से उम्मीदवार तो न बनाया लेकिन संघ का मन रखने के लिए विष्णुद्त्त शर्मा को खजुराहो सीट पर ज़रूर अटका दिया | शर्मा का नाम जब घोषित हुआ तो स्थानीय भाजपा कायकर्ताओ की तो मानो पैरो तले ज़मीन ही खिसक गई | आशंका थी वही हुआ ...पैराशूट उम्मीदवार को लेकर विरोध के सुर ऐसे बुलंद हुये कि भोपाल से लेकर दिल्ली तक के आकाओं के पेशानी पर परेशानी नाच उठी | स्थानीय नेता जो सालों से टिकिट की चाहत में एडी घिसे पड़े थे ...उन्होने भी भाजपा को सबक सिखाने के मकसद से एक जुट होकर रणनीति बनाना शुरू कर दी है | यानि की विपक्ष की बैठे बैठे ...बल्ले बल्ले | वही कांग्रेस की बात की जाये तो कांग्रेस ने सोच समझकर एक दमदार उम्मीदवार को मैदान में उतारा है | कविता रानी सिंह ...कांग्रेस विधायक विक्रम सिंह नाती राजा की पत्नी है एवं तो वर्तमान नगरपालिका अध्यक्ष भी है | खास बात ये भी है कि कविता रानी सिंह ... छ्तरपुर सियासत की महारानी एवं पन्ना जिले की बेटी है | यानि की हर मोर्चे पर भरपूर समर्थन है | खैर ... इसमें को कोई शक नहीं है कि भाजपा पहले ही इस सीट को लेकर आंकलन लगा चुकी है | पार्टी इस सीट को अपनी झोली से बाहर ही देख रही है

Comments



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED