राहुल बाबा झुनझुना नहीं ठोस कदम बताओ ?

यहाँ पढ़ें...

नई दिल्ली : चुनावी मौसम में वादे के झुनझुनों की झड़ी है | हाल ही में सत्ता में आने को बेकरार कांग्रेस ने बड़ी घोषणा की है | एलान  है कि सत्ता के घोड़े पर सवार होते ही गरीबों को 72000 रुपए सालाना दिये जाएँगे | 
 फंडा ये कि ...लालिपाप पकड़ाओ और सरकार बनाओ | 
नेता जी जिन गरीबों के लिए आपकी मेहरबानी फड़फड़ा रही है ...वो जमीन से जुड़ा इंसान भीख का तलबगार तो कतई नहीं  ... ये हाड़ तोड़ मेहनत करने वाला  तबका है ...एकता की बेमिसाल ताकत है  ...इन्हें चाहिए तो ...वो है काम करने के अवसर | 
न भरोसा हो तो ज़रा यह नमूना  देखिये आजकल सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना हुआ है  ...|  एक भारी भरकम ट्रक रेत में फंस जाता है | बड़ी बड़ी मशीने इस ट्रक को बाहर निकाल पाने में असमर्थ हो जाती है ...| आधुनिक युग की मशीनी ताकत तक हाथ जोड़ लेती है तब मजदूर खड़ा होता है | एकता,मानव बल का सामंजस्य बनता है ...और चंद पलों में फंसा ट्रक रेत से बाहर निकल सड़क पर दौड़ पड़ता है | 
यह है ताकत ...नेता जी ...लब्बोलुआव सिर्फ इतना है कि देश को मुफ्त की रोटी नहीं बल्कि हाथों को काम चाहिए ...? 
और यदि आप ये  नहीं  कर सकते तो कम से कम देश के सबसे मेहनती वर्ग को यूं  नाकारा मत बनाइये ।

Comments



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED