उफ़्फ़..निकल गई नेता जी की हेकड़ी

यहाँ पढ़ें...

मध्यप्रदेश : चुनाव है साहब....नेता जी को तय तो अपना भविष्य करना है  ...लेकिन  देश का उज्ज्वल भविष्य का  बहाना  बनाकर मतदाताओं के सामने लमलेट हुए जा रहें है । ऐसे में यह उत्साही नेता ॥कई बार जोश में होश भी खो बैठते हैं । 
लेकिन अचार संहिता में यह खोया हुआ होश ... जेल की दुःखद यात्रा का सबब भी बन सकता है ।
यही चूक विधायक दिलीप सिंह परिहार और नगर पालिका अध्यक्ष राकेश जैन से भी हो गई  । इन नेताओं ने अचार संहिता की एक बार नही बल्कि दो बार धज्जियां उड़ा दी । फिर क्या था शिकायत पर मामला दर्ज होकर अदालत की दहलीज पर पहुँच गया   । अदालत ने मामले को गंभीर मानते हुए नगर पालिका अध्यक्ष के साथ साथ विधायक जी को भी सीधे सींखचों के पीछे रवाना कर दिया  । 
तो साहब यह पूरा मसला मप्र के नीमच का है । जहां भाजपा ने 23 मार्च को मंदसौर - जावरा संसदीय क्षेत्र से सुधीर गुप्ता को उम्मीदवार घोषित किया  । सूचना मिलते ही अतिउत्साही कार्यकर्ताओं ने अचार संहिता लागू होने के बावजूद शहर के चौराहे पर आतिशबाजी के साथ नारेबाजी करना शुरू कर दिया | 
मोबाइल की ठसा हुआ सारा धटनाक्रम सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा..  अंजाम यह हुआ कि उफ़्फ़ ... विधायक जी बजाय चुनाव प्रचार करने के कोर्ट कचहरी की कार्यवाई में उलझ कर रह गए | 
खबर यह भी है कि नेता विधानसभा चुनाव में भी 2 बार अचार संहिता को ठेंगा दिखा चुके हैं ।
फिलहाल नेता जी  को जमानत मिल गई है लेकिन बड़े सबक के साथ | 
तो थोड़ा सावधान नेता जी ...सरकार बन जाये टीबी सारी हसरत पूरी कर लेना ...लेकिन फिलहाल तो नियम से चलिये ॥नही तो सावधानी हटी और ....

Comments



ताज़ा उफ्फ

TWITTER FEED